Search In This Blog

Enter Your Email

Monday, 23 October 2017

How choose MUTUAL FUND DISTRIBUTER in hindi


Mutual Fund














इस साल Mutual Fund  Industry में 8000 नए डिस्ट्रीब्यूटर जोड़े गए है।  ये नए डिस्ट्रीब्यूटर और पुराने डिस्ट्रीब्यूटर आपको Mutual Fund  में निवेश करने के लिए कह सकते हैं। पर आपको अपने पैसो को निवेश करने से पहले आर्थिक सलाह लेना बहुत जरुरी हैं। इसके लिए आप Mutual  Fund Expert की मदद भी ले सकते है। 


डिस्ट्रीब्यूटरकी योग्यता 


डिस्ट्रीब्यूटर की शैक्षिक योग्यता का जानना बहुत जरुरी हैं। आपको पता होना चाहिये की उसे किस प्रकार का ज्ञान और अनुभव है। Mutual Fund सलाहकार को विभिन्न सम्पति जैसे इकविटी , Fixed Income और Gold आदि की जानकारी होनी चाहिए। 

होना चाहिए पूरा Knowledge 


उसे और उसकी टीम को ये अच्छी  तरह से पता होना चाहिए कि ये सम्पति किस तरह विभिन्न घरेलू और अन्तर्राष्ट्रीय कार्यो  को प्रभावित कर सकती है। सलहाकार को पता होना चाहिए की आपके जीवन की जरुरत को किस तरह निवेश से कब और कैसे पूरा किया जा सकता हैं। 


आसान उपलब्धता 


क्या  आपका डिस्ट्रीब्यूटर आसानी से उपलब्ध है सबसे जरुरी बात है की जिस डिस्ट्रीब्यूटर से आप अपने पैसों  को निवेश करवा रहे हैं वो जरुरत पड़ने पर आसानी से उपलब्ध रहेगा भी या नहीं।  टेलीफोन , ईमेल  या मीटिंग के जरिए वो आपके सम्पर्क में रहना चाहिए। 

पुराण ट्रैक रिकॉर्ड चेक करे 



जिस शख्स पर भरोसा करके आप अपना पैसा उसे सौंप रहे है, उसका पुराना  ट्रैक रिकॉर्ड भी चैक  जरूर कर लें। उसने किस  क्षेत्र में काम किया है और कैसा किया है और उसे कैसा ज्ञान है, आपको पता होना चाहिए।  भारत में म्यूच्यूअल फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर के लिए कोई रेटिंग और रैंकिंग सिस्टमनहीं  है। इसलिए बेहतर होगा की आप अपने आसपास के लोगो से डिस्ट्रीब्यूटर का रेफरेंस ले सकते हैं। आप ऑनलाइन,दोस्तों,रिश्तेदारों के जरिए  भी रेफ़रेंश ले सकते हैं। 


सलाहकार का शुल्क 


एक अच्छे  सलाहकार को शुल्क यानि उसके  कीमत भी देनी पड़ती है स. अपने सलाहकार से पूंछे की क्या वो आपके हर निवेश के लिए कमीसन लेगा। कुछ डिस्ट्रीब्यूटर आपके निवेश में लगाए गए समय और निजी जरुरत के आधार पर पैसे लेते हैं। 
आप ऑनलाइन भी ले सकते है Help 
फाइनेंसियल प्लान बनाने में कई ऑनलाइन पोर्टल आपकी मदद क्र सकते हैं।  यह से आपको फ्री में डाटा मिल जाये गए जबकि सीजनल फ़ाइनैंशल प्लैनेर इसके लिए पैसे लेते हैं।  फिनान्सिअल प्लान में ओके रिस्क उठाने की अक्षमता ,भविष्य की जरूरतें और जीवन के लक्ष्यो को ध्यान में  हैं। 



1 comment:

  1. बहुत अच्छी जानकारी दी आपने

    ReplyDelete